more

Sunday, 30 June 2013

बारिश के मौसम में भी दिखें ब्यूटीफुल ..

बारिश के मौसम में भी दिखें ब्यूटीफुल ..

28_06_2013-28un13f1

ग्रीष्म ऋतु की तपिश के बाद जब मानसून आता है तो मौसम सुहावना हो जाता है। लोगों को गर्मी से राहत मिलती है, लेकिन बरसात में त्वचा व बाल संबंधी परेशानी बढ़ जाती है।
इसमें आपकी थोड़ी सी लापरवाही आपके स्वास्थ्य व सौंदर्य को प्रभावित कर सकती है। ऐसे में सावधानी बरतने की जरूरत होती है। इसके लिए त्वचा देखभाल संबंधी जानकारी बेहद लाभकारी साबित होती है।
महिलाएं व युवतियां मेकअप, मॉस्चराइजर, शैंपू से लेकर घर व ऑफिस में सावधानिया बरतकर अपने स्वास्थ्य व सौंदर्य संबंधी समस्याओं से निजात पा सकती हैं।
त्वचा संबंधी समस्याओं से बचने के लिए क्या न करें..
- कठोर साबुन का प्रयोग न करें
- चेहरे पर जैतून का तेल न लगाएं, यह ठंड के मौसम में ही अच्छा है।
- मच्छरों व कीड़ों से होने वाली एलर्जी से बचने के लिए घर के आसपास पानी जमा होने न दें।
- बादलों के पीछे छिपे सूरज की किरणें भी नुकसान पहुंचाती हैं, इसलिए सनस्क्रीन क्रीम जरूर लगाएं
- ऐसे क्लींजर या फेसवाश का प्रयोग करें, जिसमें साबुन का अंश न हो और जिससे त्वचा केरोमछिद्र साफ हो सके।
- मेकअप जितना हल्का होगा आप उतना ही मौसम का मजा भी ले सकेंगे।
मैक्स हॉस्पिटल की त्वचा रोग विशेषज्ञ डॉ.रीना शर्मा के अनुसार बारिश में नमी बहुत अधिक होती है। ऐसे में पैर, बाल व त्वचा को अधिक समय तक गीला न रहने दें, क्योंकि इससे फंगल इंफेक्शन की समस्याएं हो सकती हैं। हेयर फॉल की समस्या से बचने के लिए बालों की सफाई का पूरा ध्यान रखें व एक दिन के अंतराल पर बालों को धोएं। इसके अलावा नाखूनों का भी विशेष ध्यान रखें। इनमें भी फंगल समस्या हो सकती है।
स्वास्थ्य संबंधी छोटी छोटी बातों को भी नजरअंदाज न करें।
ध्यान रखने वाली सामान्य बातें ..
- सूती व मुलायम कपड़े ही पहनें
- लंबे समय तक जूते न पहनें
- खाना खाने से पहले हाथ धोना न भूलें और अपने हाथों से चेहरे को स्पर्श न करें।
- पानी को ताबे या चादी के बर्तन में रखना सिर्फ फैशन नहीं है। इससे पानी में मौजूद कीटाणु नष्ट भी हो जाते हैं
ऐसे मौसम में स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से बचना भी उतना ही आवश्यक है।
त्वचा रोग विशेषज्ञ डॉ. इंदू तोलानी के अनुसार, ऐसे मौसम में त्वचा संबंधी समस्याओं के होने के साथ साथ हेपेटाइटिस, टायफायड और पानी से फैलने वाली बीमारियों का खतरा अधिक रहता है। फलों और सब्जियों को धोकर ही खाएं और हल्के आहार का सेवन करें। बाहर का खाना कम से कम खाएं और पानी को उबाल कर ही पीएं, जिससे पानी में मौजूद सूक्ष्मजीव नष्ट हो जाएं।